our team

teji sethi
vaibhav joshi
priti chahar

Wooden Window
Wooden Window

teji sethi

A nutritionist by profession, Teji Sethi transitioned from micronutrients to micro poetry. She now loves concocting a mix of emotions through her short verses. A poet at heart, she’s charmed by the beauty and musicality in nature. 

Teji’s bilingual poems in free-verse, haikai verse, and works of art have found a home in numerous national and international venues — The Kolkata Review, Under the Basho, Drifting Sands, Moonbathing Journal, Femku Mag, Humankind Journal, Cold Moon Journal, Frogpond, Modern Haiku, Acorn, Cattails, Ribbons – a Journal by Tanka Society of America, to name but a few. In addition, her haiku and senryu have won accolades and honorable mentions in Indian and International haiku contests.

 

Teji’s debut collection of Hindi poems, Cotton Blooms— Kapaas Ke Phool, was published in 2019, with The Partition Museum of India awarding one of its creations. The literary piece was later translated into Punjabi and broadcasted over Radio Pakistan, Lahore. Her first haikai chapbook, Uncharted Roads, and a bi-lingual anthology of poems titled

I am not enough to Know as an editor were released in January 2021. Her first collection of haikai pieces titled, Moss Laden Walls is just out in print. She is one of the poets featured in the coveted Year Book of Indian Poetry in English 2020-21.

 

While most of her poems are a mélange of her experiences, the subject close to her heart is the narratives of the India-Pakistan Partition. Teji currently resides in Bangalore and freelances in creative writing.

अजमेर में जन्मी तेजी, दक्षिणी राजस्थान में अरावली की तलहटी के बीच स्थित एक छोटे से एकांत शहर बांसवाड़ा में पली बड़ी हैं। पेशे से पोषण विशेषज्ञ व शोधकर्ता हैं। वह वर्तमान में बैंगलोर में रहती हैं और हाइकाई (जापानी) साहित्य के क्षेत्र में काम कर रही हैं। मुक्त छंद, हाइकाई छंदों में उनकी द्विभाषी कविताओं को कई राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय संकलनों और पत्रिकाओं में सराहा और सम्मानित किया गया है। हाल ही में उनका हाइकु, सेर्न्यू और हाइबुन का पहला संग्रह, मौस लैडन वाल्स प्रकाशित हुआ है। वह त्रिया की क्यूरेटर और हाइकु संपादक हैं।

Wooden Window

vaibhav joshi

मध्य प्रदेश के इंदौर शहर में जन्मे वैभव जोशी, पिछले १८ वर्षों से "आयाम डिजाइनिंग सैल" का संचालन कर रहे हैं| अच्छे साहित्य और संगीत में रूचि रखने वाले वैभव, लिखने का शौक रखते हैं और पिछले १० वर्षों से "अनकही" के माध्यम से अपनी लघु रचनाओं को पाठकों के समक्ष ला रहे हैं| वैभव "क से कविता" के इंदौर अध्याय के सञ्चालन में सक्रिय रूप से कार्यरत रहे हैं| त्रिया के लिए वह लघु कविताओं के संपादक हैं

Born in Indore, Madhya Pradesh, Vaibhav Joshi has been running the "Aayam Designing Cell" for the past 18 years. Vaibhav, who is interested in good literature and music, is fond of writing and has been bringing his short verses to the readers through "अनकही" for more than a decade. Vaibhav has been actively working in the curation of the Indore chapter of "क से कविता". He is the editor of short poems for Triya

priti chahar

प्रीति, राजस्थान के उपनगरों के बीच एक छोटे से शहर, बांसवाड़ा में पली हैं और वर्तमान में आगरा में रहती हैं। वह एक महत्वाकांक्षी व्यक्तित्व हैं जो मानती हैं कि उनकी ताकत उनके शब्दों में निहित है। वह अंग्रेजी में पीएचडी हैं और एक कॉलेज में व्याख्याता के रूप में काम कर चुकी हैं। उनकी कई रचनाएँ आगरा और मेरठ के मासिक प्रकाशन व कई संकलनों में प्रकाशित हुई हैं। प्रीति त्रिया के लिये लघु कावितायों की सम्पादक व अनुवादक हैं

Priti grew up in Banswara, a small town in the suburbs of Rajasthan and currently lives in Agra.  She is an ambitious personality who believes that her strength lies in her words.  She is a PhD in English and has worked as a lecturer in a college. Many of her works have been published in monthly publications and several collections in Agra and Meerut. Priti is the micro poems editor and translator for Triya
 

Wooden Window