top of page

मजदूरी



स्त्रियाँ

चाहती हैं अपनी कोख़ में पुत्र

ताकि वक़्त आने पर

दूध का मोल लगा सकें

और माँ बनने से पहले

बन बैठतीं हैं व्यापारी

फिर उसी रक्त से उपजता है एक आदमी

जो औरत का मोल लगाता है

पर यह कोई नहीं समझ पाता

कि यह सोच उस तक पहुँची है

गर्भ नाल से

और उस स्त्री की अपेक्षाओं का बोझ

लादती है दूसरी स्त्री

यहाँ हर स्त्री दूसरी स्त्री की मज़दूरी कर रही है

और खड़ी कर रही है पितृसत्ता की दीवार


तेजी

8 views1 comment

Recent Posts

See All
bottom of page